गुरुवार, 30 मई 2013

भारत में मंदिर निर्माण शैली और प्रमुख मंदिर

नाचना कुठार (मध्य प्रदेश )का गुप्तकालीन पार्वती मंदिर, जो मंदिर निर्माण की प्रारंभिक अवस्था के दर्शाता है . 
मंदिर हिन्दू धर्म में बहुत ही महत्वपूर्ण स्थान रखते है . हिन्दू धर्म में मंदिर देवी-देवताओं के निवास स्थान मने जाते है . और हिन्दू इन मंदिरों में जाकर देवी-देवताओं की पूजा कर उन्हें प्रसन्न करने का प्रयास करते है . भारत में मंदिर निर्माण के साक्ष्य चौथी सदी ईस्वी से मिलना प्रारंभ होते है . इस समय भारत में गुप्त शासको का पुरे भारत पर शासन था . उन्ही के द्वारा मंदिर निर्माण को संरक्षण दिया गया . गुप्तकाल से ही मंदिरों का प्रभुत्व बढ़ा और बाद में अन्य शासको ने भी कई मंदिरों का निर्माण कराया . अलग-अलग कालखंड एवं क्षेत्र में बिभिन्न शासको के द्वारा निर्माण कराये जाने के कारण इनकी निर्माण शैली और संरचना में भी परिवर्तन आये .

 प्राचीन भारतीय इतिहास के आधार पर भारत में मंदिर निर्माण शैलियों को तीन प्रमुख शैलियों में बांटा  गया .
१- नागर शैली के मंदिर - इस शैली के मंदिर मुख्यतः मध्य भारत में पाए जाते है जैसे -
नागर शैली में खजुराहो का कंदरिया महादेव मंदिर
लिंगराज मंदिर - भुवनेश्वर (ओड़िसा )
जगन्नाथ मंदिर - पुरी (ओड़िसा )
कोणार्क का सूर्य मंदिर - कोणार्क  (ओड़िसा )
मुक्तेश्वर मंदिर -  (ओड़िसा )
खजुराहो के मंदिर - मध्य प्रदेश 
दिलवाडा के मंदिर - आबू पर्वत (राजस्थान )
सोमनाथ मंदिर - सोमनाथ (गुजरात )
अपने भव्य गोपुरम के साथ द्रविड़ शैली के मंदिर



२- द्रविड़ शैली के मंदिर - दक्षिण भारत में पाए जाने वाले इन मंदिरों का शिखर पिरामिड के आकर का होता है , मंदिरों से ज्यादा भव्य इनका गोपुरम (मुख्य द्वार ) होता है . मुख्य मंदिर है -
मामाल्ल्पुरम का रथ मंदिर - तमिलनाडु 
कैलास मंदिर - कांची 
बैकुंठ मंदिर - पेरूमल 
कैलास मंदिर - महाराष्ट्र 



बेशर शाली में नासिक का त्रियाम्बकेश्वर मंदिर

महाबलीपुरम मंदिर - तमिलनाडु 
तंजाबुर का ब्रह्दिश्वर  मंदिर - तमिलनाडु 
मीनाक्षी मंदिर - तमिलनाडु 
तिरुपति मंदिर - तमिलनाडु 
३- बेशर शैली के मंदिर - 
अमरनाथ का मंदिर - महाराष्ट्र 
खानदेश का मंदिर - बुरहानपुर 
स्वामी रामकृष्ण परमहंस की उपासना स्थली : दक्षिणेश्वर काली मंदिर , कोलकाता
नासिक के मंदिर - महाराष्ट्र 
तंत्र-मंत्र आदि के लिए चर्चित कामख्या देवी मंदिर , गुवाहाटी (असम )

पर्वतीय शैली में बना हुआ बद्रीनाथ मंदिर , उत्तराखंड

कोणार्क का विश्व प्रसिद्द सूर्य मंदिर

नई दिल्ली स्थित अक्षर धाम मंदिर : यह विश्व के सबसे बड़े मंदिरों में से एक है .
द्रविड़ शैली में बना हुआ एकमात्र उत्तर भारत का मंदिर : तेली का मंदिर , ग्वालियर
यूरोपीय शैली में बना पन्ना का बलदेव मंदिर












3 टिप्‍पणियां:

  1. रोचक है मंदिरों की शैलियाँ और इनके चित्र भी बहुत सुंदर हैं ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. पँ० सुन्दरलालसौड़ियाल शास्त्री
    राज गुरु
    09410270265

    उत्तर देंहटाएं
  3. Sundarlalsaudiyal@gmail.com
    Hinduism
    Priest
    India
    Asia
    South
    +919410270265,

    उत्तर देंहटाएं