रविवार, 9 सितंबर 2012

क्या है हिग्स बोसान ?

जिनेवा  (स्विट्जरलैंड ) स्थित यूरोपियन ओर्गेंईजेशन फॉर न्यूक्लियर रिसर्च (सर्न ) द्वारा विगत ४ जुलाई २०१२ को ईश्वरीय कण (god particle ) या हिग्स बोसान नामक सूक्ष्म अणु खोज लेने का दावा किया गया .
अब प्रश्न उठता है , कि आखिर ये हिग्स बोसान क्या है ? 
वैज्ञानिक अध्ययनों के अनुसार बिग बैंग (महाविस्फोट ) के बाद उत्पन्न १२ तत्वों के संयोग से ब्रम्हांड कि उत्पत्ति हुई है . इनमे से ११ कणों की खोज हो चुकी है , १२ वाँ कण ही 'हिग्स बोसान ' है , जिसके लिए सर्न द्वारा लार्ज हेड्रन कोलाईडर नामक महामशीन का निर्माण किया गया . इस मशीन द्वारा प्रोटानों की महा भिडंत करा कर बिग बैंग जैसी स्थितियां निर्मित की गयी और परिणामो को संवेदनशील कम्प्यूटर्स पर संगृहीत किया गया . महाविस्फोट का महाप्रयोग एक सेकण्ड से भी कम समय के लिए था .
कैसे नाम पड़ा ? 
 १९६४ में ब्रिटेन के वैज्ञनिक पीटर हिग्स और उनके सहयोगियों ने एक ऐसे कण की परिकल्पना की , जो अपने चारो और एक शक्तिशाली बल क्षेत्र का निर्माण करता है . जब  भी कोई प्राथमिक  कण इस क्षेत्र से गुजरता है , तो वह इससे द्रव्यमान ग्रहण कर आकार प्राप्त कर लेता है . वैज्ञानिको का मानना है. कि सारी सृष्टि इसी तरह बनी है . हिग्स बोसान कण सम्पूर्ण सृष्टि में व्याप्त है .
                        बोसान शब्द भारतीय वैज्ञानिक सत्येन्द्र नाथ बोस के नाम  से लिया गया  है , जो आईन्सटीन  के समकालीन थे . ढाका विश्वविद्यालय में अनुसन्धान के दौरान सत्येन्द्र नाथ बोस ने पाया कि ऊर्जा के विकिरण में सूक्ष्म कणों के लिए नियम अलग होते है . मात्र ३० वर्ष की आयु के इस सिद्धांत को किसी ने तवज्जो नही दी , तो उन्होंने अपने शोध पत्र को आईन्सटीन को भेज दिया . दोनों वैज्ञानिको के सम्मिलित प्रयास से बोस-आईन्सटीन कंडसेट की खोज हुई . दोनों वैज्ञानिको की इस खोज के बाद ही इस वैज्ञानिक सत्य को मान्यता मिली , कि विभिन्न पदार्थ के व्यव्हार और गुण 'क्वांटम मेकेनिक्स ' से संचालित होते है , जबकि ब्रम्हांड के पिंड गुरुत्वाकर्षण की डोर बंधे है , और सापेक्षता के नियमो के अनुसार गति करते है . 
हिग्स बोसान कणों से सम्बंधित इस प्रयोग के बाद ' विज्ञान बनाम भगवान् ' पर बहस तेज हो गयी है . ब्रम्हांड का निर्माता कौन है ? विज्ञान या भगवान् ? 
 इस प्रयोग के labh  :- 
हिग्स बोसान कणों की खोज से हमारे  जीवन के कई क्षेत्रों में क्रन्तिकारी बदलाव आ जायेगा . 
इससे इंटरनेट की स्पीड कई गुना बढ़ जाएगी . 
यह ऐसे सभी उपकरणों के लिए सहायक होगा , जिसमे सिलिकोन का प्रयोग होता है .
 अन्तरिक्ष तकनीक और अधिक प्रभावशाली हो जाएगी . 
स्वस्थ्य सेवाओ में सुधार होगा
बिजली उत्पादन बढ़ जायेगा 
जिनेवा  (स्विट्जरलैंड ) स्थित यूरोपियन ओर्गेंईजेशन फॉर न्यूक्लियर रिसर्च (सर्न )
 
 

2 टिप्‍पणियां:

  1. आज 18/09/2012 को आपकी यह पोस्ट (विभा रानी श्रीवास्तव जी की प्रस्तुति मे ) http://nayi-purani-halchal.blogspot.com पर पर लिंक की गयी हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. एक निवेदन
    कृपया निम्नानुसार कमेंट बॉक्स मे से वर्ड वैरिफिकेशन को हटा लें।
    इससे आपके पाठकों को कमेन्ट देते समय असुविधा नहीं होगी।
    Login-Dashboard-settings-comments-show word verification (NO)

    अधिक जानकारी के लिए कृपया निम्न वीडियो देखें-
    http://www.youtube.com/watch?v=L0nCfXRY5dk

    उत्तर देंहटाएं