शनिवार, 28 जुलाई 2012

ओलिम्पिक खेल : महत्वपूर्ण जानकारी

ओलिम्पिक खेल
खेल की दुनिया में प्रतियोगिताओं का सबसे बड़ा समारोह है ओलिम्पिक। इसकी प्रेरणा यूनान के पुराने खेल समारोहों से ली गई है जो ईसा से आठ सदी पहले से लेकर ईसा की चौथी सदी तक ओलिम्पिया में होते रहे। यानी तकरीबन बारह सौ साल तक ये खेल यूनान में हुए। दरअसल पुराने यूनान में सिर्फ ओलिम्पिक ही नहीं, चार खेल समारोह होते थे।
1.ओलिम्पिक, जो ओलिम्पिया में हर चार साल बाद होते थे।
2.पायथियन गेम्स जो डेल्फी में हर चार साल बाद होते थे। इन खेलों का ओलिम्पिक खेलों से दो साल का अंतराल होता था।
3.नीमियन गेम्स, जो नीमिया में होते थे।
4.इस्थमियन गेम्स, जो कोरिंठ शहर में होते थे।
नीमियन और इस्थमियन खेल दो साल के अंतराल में होते थे। यानी ओलिम्पिक और पायथियन गेम्स के बीच के साल में। इस तरीके से एक ओलिम्पक से दूसरे ओलिम्पिक तक हर साल खेल समारोह होते थे। इस चार साल के समय चक्र को ओलिम्पियाड कहते थे। और इन चारों खेलों को पैन हैलेनिक गेम्स कहा जाता था।
इन पुराने खेलों की परम्परा में आधुनिक खेलों को जन्म देने का श्रेय फ्रांस के शिक्षाशास्त्री पियरे द कूबर्तिन को जाता है। पेरिस में जन्मे कूबर्तिन शाही परिवार से ताल्लुक रखते थे। उनकी दिलचस्पी शिक्षा के साथ-साथ इतिहास में भी थी। और पुराने यूनान के विवरण उन्हें रोमांचित करते थे। संयोग से कूबर्तिन 1883 में ब्रिटेन के प्रसिद्ध रग्बी स्कूल में गए, जिसे प्रसिद्ध शिक्षाशास्त्री टॉमस आरनल्ड ने स्थापित किया था। इस स्कूल में शारीरिक शिक्षा के कार्यक्रम से वे खासे प्रभावित हुए। धीरे-धीरे उन्होंने शारीरिक शिक्षा के एक दर्शन को विकसित किया, जिसमें एथेंस के पुराने जिम्नेज़ियमों से प्रेरणा ली। खेलों का सामाजिक विकास से एक रिश्ता उन्होंने जोड़ा।
ओलिम्पिक खेलों को शक्ल देने का श्रेय ब्रिटेन के सर्जन, मजिस्ट्रेट और शिक्षाशास्त्री डॉ विलियम पेनी ब्रुक्स को भी दिया जाना चाहिए, जो पाठ्यक्रम में शारीरिक शिक्षा को जगह दिलाने के लिए जद्दो-ज़ेहद कर रहे थे। 1890 में दोनों की मुलाक़ात हुई और 1894 में कूबर्तिन ने अंतरराष्ट्रीय कमेटी (आईओसी) की स्थापना की। और 1896 में एथेंस में पहले ओलिम्पिक खेल हुए। वस्तुतः आधुनिक ओलिम्पिक खेलों का काफी श्रेय डॉ विलियम पेनी ब्रुक्स को दिया जाना चाहिए क्योंकि उनकी प्रेणा से श्रॉपशर, इंग्लैंड में सन 1850 से वैनलॉक ओलिम्पियन सोसायटी एनुअल गेम्स चल रहे थे, जिसकी परम्परा आज भी जीवित है। इसीलिए लंदन के ओलिम्पिक खेलों में जो दो मैस्कट हैं उनमें एक का नाम वैनलॉक है।  
ओलिम्पिक खेलों के बाकी इतिहास पर जाने के पहले यह बताना ज़रूरी है कि आज चार तरीके के ओलिम्पिक खेल होते हैं। एक गर्मियों के ओलिम्पिक, दूसरे सर्दियों के ओलिम्पिक, एक पैरालिम्पिक, यानी शारीरिक रूप विकल खिलाड़ियों के ओलिम्पिक और एक यूथ ओलिम्पिक। सर्दियों के ओलिम्पिक खेल 1924 से शुरू हुए हैं। यूथ ओलिम्पिक भी गर्मियों और सर्दियों के अलग-अलग होते हैं। इनकी शुरूआत हाल में हुई है। पहले यूथ ओलिम्पिक खेल सन 2010 में सिंगापुर में हुए थे और पहले यूथ विंटर ओलिम्पिक इस साल जनवरी में इंसब्रुक, ऑस्ट्रिया में हुए। दूसरे ग्रीष्मकालीन ओलिम्पिक 2014 में नानजिंग, चीन में और 2016 के शीतकालीन ओलिम्पिक 2016 में लिलेहैमर, नॉर्वे में होंगे। पैरालिम्पिक खेल ग्रीष्मकालीन और शीतकालीन खेलों के साथ ही होते हैं। इनकी शुरूआत 1948 में हुई। पैरालिम्पिक खेल आयोजित कराने के लिए आईपीसी नाम की संस्था अलग है। शीतकालीन खेल मूलतः बर्फीली सतह पर खेले जाने वाले खेल होते हैं।  
आईओसी की स्थापना 23 जून 1894 को हुई। इसके पहले अध्यक्ष थे यूनान के देमेत्रियोस विकेलास। 1896 में खुद कूबर्तिन इसके अध्यक्ष बने और वे 1925 तक इसके अध्यक्ष रहे। इसका मुख्यालय लाउज़ाने, स्विट्ज़रलैंड में है। इन दिनों इसके अध्यक्ष हैं याकस काउंट रोग। ओलिम्पिक खेलों के संचालन के लिए एक ओलिम्पिक चार्टर है जिसमें इसके नियमो की व्याख्या की गई है। इस चार्टर में अबतक अनेक संशोधन भी हुए हैं। ओलिम्पिक खेलों में दुनियाभर के देश शामिल होते हैं। इस वक्त 205 देशों की ओलिम्पिक समितियाँ आईओसी से मान्यता प्रापित हैं।  आईओसी में 105 सक्रिय सदस्य हैं और 32 मानद। इसके सदस्यों की संख्या ज्यादा से ज्यादा 115 हो सकती है। इनका कार्यकाल आठ साल का होता है और वे भविष्य में भी चुने जा सकते हैं। आईओसी की कामकाज की भाषा अंग्रेजी और फ्रेंच है।
ओलिम्पिक गीत
1896 के ओलिम्पिक खेल शुरू होने पर एक गीत गाया गया था। ग्रीक कवि कोस्टिस पलामास के लिखे और संगीतकार स्पाइरिडॉन समारास के संगीतबद्ध इस गीत को उसी वक्त ओलिम्पिक गीत घोषित नहीं किया। 1957 में आईओसी ने इसे ओलिम्पिक गीत के रूप में स्वीकार किया। इसके बाद हरेक ओलिम्पिक खेल में एक स्थानीय ओलिम्पिक गीत भी शामिल होने लगा है।  
ओलिम्पिक खेल शुरूआत में पूरी तरह शौकिया खेल थे, पर 1986 से चार्टर में बदलाव करके पेशेवर खिलाड़ियों को भी हिस्सा लेने की अनुमति दे दी गई है।
ओलिम्पिक प्रतीक
ओलिम्पिक खेलों का सूत्रवाक्य है सिटियस, एल्टियस, फोर्टियस। इन लैटिन शब्दों का अंग्रेजी में अर्थ है फास्टर, हायर एंड स्ट्रांगर। माने तीव्रतर, उच्चतर और दृढ़तर। यानी नई से नई सीमाएं पार करो।
ओलिम्पिक खेलों का प्रतीक चिह्न है पाँच रंगों के पाँच वृत्त जो एक-दूसरे से जुड़े हैं। सफेद पृष्ठभूमि पर नीले, पीले, काले, हरे और लाल रंग के पाँच वृत्त दुनिया के पाँच महाद्वीपों प्रतिनिधित्व भी करते हैं। इन वृत्तों की रचना स्वयं कूर्बतिन ने 1912 में की थी, पर इन्हें आधिकारिक रूप से ओलिम्पिक चिह्न बनाने में समय लगा और पहली बार 1920 के एंटवर्प खेलों में इन्हें ओलिम्पिक ध्वज में जगह मिली। इस झंडे को आज भी एंटवर्प फ्लैग कहा जाता है।
पहले ओलिम्पिक खेल
6 से 15 अप्रेल 1896 को एथेंस के पैनाथेनिक स्टेडियम में पहले ओलिम्पिक खेल हुए थे। इन खेलों में 14 देशों के 241 एथलीटों ने हिस्सा लिया। नौ खेलों की कुल 43 प्रतियोगिताएं इसमें हुईं। ये खेल थे एथलेटिक्स, सायकिलिंग, फेंसिंग, जिम्नास्टिक्स, शूटिंग, स्विमिंग, टेनिस, वेट लिफ्टिंग और कुश्ती। उस वक्त एक सलाह दी गई कि एथेंस को स्थायी रूप से ओलिम्पिक खेलों के आयोजन का काम दे दिया जाए, पर आईओसी ने इस विचार को स्वीकार नहीं किया और दूसरे खेल सन 1900 में पेरिस में करने का फैसला किया गया। जहाँ एथेंस में 14 देशों के 241 एथलीटों ने हिस्सा लिया वहीं 2008 के पेइचिंग ओलिम्पिक में 204 देशों के 10500 खिलाड़ियों ने भाग लिया।
1896 के पहले ओलिम्पिक खेलों में स्त्रियों को भाग लेने की अनुमति नहीं दी गई। फिर भी स्तामाता रेविती नाम का एक स्त्री ने 11 अप्रेल को मैराथन दौड़ के उस मार्ग में पूरी दौड़ लगाई जिसपर पहले पुरुष दौड़ चुके थे। 17 महीने के बेटे की माँ रेविती को स्टेडियम में प्रवेश नहीं दिया गया, पर उसने आसपास ख़ड़े लोगों से दस्तखत कराए कि उसने पाँच घंटे और तकरीबन तीस मिनट में वह दौड़ पूरी की। उस दौड़ के कागज़ात आज नहीं मिलते, पर रेविति ने अपना नाम अमर कर दिया। सन 1900 में पेरिस में हुए ओलिम्पिक खेलों में महिलाओं को भी भाग लेने की अनुमति दे दी गई। उन खेलों में 20 महिलाओं ने हिस्सा लिया।
ओलिम्पिक खेलों के पहले यूनान से आयोजन स्थल तक मशाल लाने की शुरूआत 1936 के बर्लिन गेम्स से हुई। खेल शुरू होने के महीनों पहले ओलिम्पिया में प्राचीन खेल स्थल पर सौर किरणों की मदद से एक मशाल जलाई जाती है। इस मशाल को दुनियाभर के खिलाड़ी, राजनेता, सेलेब्रिटी और सामान्य लोग लेकर जाते हैं और अंततः यह आयोजन स्थल तक पहुँचती है।
खेलों की सूची
ओलिम्पिक खेलों में कुछ खेल हट जाते हैं और कुछ नए खेल आ भी जाते हैं। मसलन पोलो और रस्साकशी अब इनका हिस्सा नहीं हैं। टेनिस और आर्चरी लम्बे समय तक इनमें शामिल नहीं रहे, पर अब इनकी वापसी हो गई। यों 35 खेलों की 400 के आसपास प्रतियोगिताएं स्वीकृत हैं। पर सभी प्रतियोगिताएं हरेक ओलिम्पिक में नहीं होतीं।
The 2012 Summer Olympic program features 26 sports and a total of 39 disciplines:
1.Aquatics: Diving (8), Swimming (34), Synchronized swimming (2), Water polo (2)
2.Archery (4)
3.Athletics (47)
4.Badminton (5)
5.Basketball (2)
6.Boxing (13)
7.Canoeing: Sprint (12), Slalom (4)
8.Cycling : BMX (2), Mountain biking (2), Road (4), Track (10)
8. Equestrian : Dressage (2), Eventing (2), Jumping (2)
10. Fencing (10)
11. Field hockey (2)
12. Football (2)
13. Gymnastics: Artistic (14), Rhythmic (2), Trampoline (2)
14. Handball (2)
15.Judo (14)
16. Modern pentathlon (2)
17. Rowing (14)
18. Sailing (10)     
19.Shooting (15)
20. Table tennis (4)
21. Taekwondo (8)
22. Tennis (5)
23. Triathlon (2)
24: Volleyball : Volleyball (2), Beach volleyball (2)
25. Weightlifting (15)
26. Wrestling: Freestyle (11), Greco-Roman (7)
मैराथन दौड़
सन 2010 में ग्रीस ने मैराथन दौड़ के ढाई हज़ार साल पूरे होने पर समारोह किया था। ईपू सन 490 में फारस की सेना के साथ एथेंस की सेना का मैराथन में युद्ध हुआ था। इस युद्द में विजय की सूचना देने के लिए फिडीपीडस नाम के संदेशवाहक ने तकरीबन 240 किलोमीटर लम्बी दौड़ लगाई थी। विजय संदेश देने वाला वह संदेशवाहक मर गया, पर उसकी याद में यह सबसे लम्बी दौड़ आज भी चल रही है। आज इसकी मानक दूरी 42.195 किलोमीटर यानी 26 मील 385 गज है।
एथलेटिक्स
आपने एथलेटिक्स के स्टेडियम पर ध्यान दिया होगा तो वह दो हिस्सों में मिलेगा। उसमें एक साथ कई प्रतियोगिताएं चलतीं हैं। इसका हिस्सा ट्रैक होता है, जो मैदान के चारों ओर ओवल की शक्ल में होता है। इसमें शॉर्ट डिस्टेंस, मिडिल डिस्टेंस और लांग डिस्टेंस की रेस होती हैं। रेस में हर्डल्स और रिले रेस भी होती हैं। बीच में फील्ड के ईवेंट होते हैं, जिनमें थ्रो और जम्प होते हैं। थ्रो में जेवलिन, डिस्कस, गोला और तारगोला फेंक प्रतियोगिताएं होतीं हैं। इसके अलावा जम्प होते लांग जम्प, ट्रिपल जम्प और हाई जम्प वगैरह। एथलेटिक्स में वॉक होती है और डिकेथलन और पेंटाथलन प्रतियोगिताएं भी होती हैं।
कहाँ-कहाँ हुए ओलिम्पिक खेल
1896 - Athens, Greece
1900 - Paris, France
1904 - St. Louis, United States
1908 - London, United Kingdom
1912 - Stockholm, Sweden
1916 - Scheduled for Berlin, Germany*
1920 - Antwerp, Belgium
1924 - Paris, France
1928 - Amsterdam, Netherlands
1932 - Los Angeles, United States
1936 - Berlin, Germany
1940 - Scheduled for Tokyo, Japan*
1944 - Scheduled for London, United Kingdom* 1948 - London, United Kingdom
1952 - Helsinki, Finland
1956 - Melbourne, Australia
1960 - Rome, Italy
1964 - Tokyo, Japan
1968 - Mexico City, Mexico
1972 - Munich, West Germany (now Germany)
1976 - Montreal, Canada
1980 - Moscow, U.S.S.R. (now Russia)
1984 - Los Angeles, United States
1988 - Seoul, South Korea
1992 - Barcelona, Spain
1996 - Atlanta, United States
2000 - Sydney, Australia
2004 - Athens, Greece
2008 - Beijing, China
2012 - London, United Kingdom
2016 - Rio de Janeiro, Brazil
2020 - Candidate host cities: Istanbul, Tokyo, or Madrid (host city to be selected September 2013)
                       
World Wars led to the cancellation of the 1916, 1940, and 1944 Games. Large boycotts during the Cold War limited participation in the 1980 and 1984 Games.
साभार -  http://gyaankosh.blogspot.in
 

3 टिप्‍पणियां:

  1. मुझे आपके इस ब्लॉग के आलेख बहुत अच्छे लगते हैं। इस पर एक विषय में एक साथ अनेक जानकारी मिल जाती है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. प्रोत्साहन के लिए मनोज जी शुक्रिया !

    उत्तर देंहटाएं