शुक्रवार, 9 जनवरी 2015

जाने आतंकवादी संगठन आई एस आई एस (ISIS) को

बहुत दिनों बाद ब्लॉग पर आने के लिए क्षमा प्रार्थी हूँ. जिस जगह पदस्थ हूँ , वहाँ इंटरनेट कनेक्शन की समस्या है. मोबाइल से लंबी ब्लॉग पोस्ट लिखना दुरूह कार्य है. आज की यह पोस्ट मोबाइल की ही कोशिश है. आप सभी को नव वर्ष 2015 की हार्दिक शुभकामनायें, ईश्वर आपको इस वर्ष इच्छित सफलता दें.
आज पेरिस की एक व्यंग्य पत्रिका के कार्यालय में हुये आतंकवादी हमले में 11लोगो की मृत्यु में आई एस आई एस का हाथ है. आज ये आतंकी संगठन क्रूर आतंक का नया चेहरा बनकर बड़ी तेजी से उभरा है. आइये जानते है इस खूंखार आतंकी संगठन के बारे में...
इस्लामिक स्टेट ऑफ इराक एण्ड सीरिया का गठन 2004 में इस्लामिक स्टेट ऑफ इराक एण्ड लेवेण्ट (ISIL) के रूप में हुआ था. वर्ष 2009 में इसका नाम परिवर्तित करके 'आई एस आई एस 'कर दिया गया.
यह ईराक, सीरिया और तुर्की में सक्रिय है, इस के पास लगभग 10,000 सशस्त्र लड़ाके है, इसके पास लूटी गई राशि लगभग 12,000 करोड़ रू. होने का अनुमान है. यह सुन्नी विद्रोहियों व चरमपंथियों का आतंकी संगठन है. आईएसआईएस के आतंकियों ने इराक के उत्तर पश्चिम क्षेत्र पर जबरन कब्जा किया है. तेल के कुंओं हेतु ख्यात इराक के मोसूल शहर पर आतंकियों ने सबसे पहले 10 जून 2014 को कब्जा किया. इराक की सेना व सरकार इन्हे आगे बढ़ने से रोकने में असमर्थ रही. धीरे-धीरे आईएसआईएस ने इराक के एक बड़े हिस्से मे कब्जा कर लिया. 20 जून को आईएसआईएस के सरगना अबु बक्र अल बगदादी ने सीरिया के पूर्वी व इराक के पश्चिमी क्षेत्र को स्वतंत्र इस्लामिक राष्ट्र घोषित करके खुद को मुसलमानों का खलीफा घोषित किया.
इराक के बढ़ते संकट व आईएसआईएस  के बढ़ते वर्चस्व को रोकने हेतु अमेरिका को सीधे हस्तक्षेप किया. 8 अगस्क को अमेरिकी सेना ने इराक में आईएसआईएस के ठिकानों पर बमबर्षक विमानों से हमला किया. सिंजार पर्वत पर फंसे हजारों यजीदी अल्पसंख्यकों हेतु राहत सामग्री भी गिरायी.

आईएसआईएस ने इराक के तेल कुंओं पर भी कब्जा कर लिया है.

4 टिप्‍पणियां:

  1. आईएसआईएस के बारे में बढ़िया जानकारी सर। सादर।।

    उत्तर देंहटाएं
  2. अतिउत्तम जानकारी के लिए आपको सहृदय धन्यवाद्।

    उत्तर देंहटाएं
  3. मुकेश जी आपके द्वारा बताई गयी बाते बहुत ही यथार्थ है| आप ऐसी ही महत्वपूर्ण जानकारियां अब शब्दनगरी पर भी प्रकाशित कर सकते हैं| वहां पर भी
    आतंकवाद एवं हथियार मार्किट के अन्तर्सम्बन्ध
    जैसी रचनाएं पढ़ व् लिख सकते हैं|

    उत्तर देंहटाएं